इन 5 तरीको से अपने Debit Card की सुरक्षा करे

हम अपने डेबिट कार्ड को कैसे सुरक्षित रख सकते है ये आज के ब्लॉग-पोस्ट (5 Best Ways to Protect Yourself Against Debit Card Frauds in India) में मै आपको Step-by-Step बताऊंगा जिससे आप अपने मेहनत की कमाई को सुरक्षित कर सकते है।

मेरे द्वारा बताये गए इन टिप्स को अगर आप अपने लाइफ में इस्तेमाल करेंगे, डेबिट कार्ड की हिफाजत में इस्तेमाल करेंगे तो मै आपको गारंटी देता हूँ कि आप कभी भी डेबिट कार्ड के फ्रॉड में नही फंस सकते।

How to protect yourself against debit card fraud

आजकल के ज़माने में ट्रांसक्शन के लिए इस्तेमाल किये जाने वाले सबसे ज्यादा पसंदीदा साधनों में से एक है डेबिट कार्ड। ये Convenience है, हमारा समय बचाता है और कैश कहीं ले जाने के लिए बहुत ही बढ़िया है।

फिर भी केवल इसी सुविधा के कारण हम इसे कोई मामूली सी चीज नही समझ सकते, खासतौर पर तब जब दुनियाभर में डेबिट कार्ड के फ्रॉड बढ़ रहे है। बार-बार डेबिट कार्ड धारक इन फ्रॉड करने वालो का शिकार बन रहे है, भारत में लगभग 50 करोड़ डेबिट कार्ड धारक है।

2015 में किये गए एक Survey के अनुसार जिसमे दुनिया के 6 करोड़ डेबिट कार्ड धारको ने हिस्सा लिया था, पता चला कि हर चार में से एक बंदा इन फ्रॉड का शिकार है और इस गिनती में भारत दूसरे नंबर पर है।

डेबिट कार्ड की सुरक्षा कैसे करे? Debit Card Protection

अपने पिन को सेफ रखिये ये आपके कार्ड को किसी भी खतरे से बचाने के लिए, आपके द्वारा उठाया जाने वाला सबसे पहला कदम होगा। अपने पिन को सेफ रखने का मतलब ये है कि आप अपने पैसे को सेफ रखते है, इसे किसी के साथ भी शेयर मत कीजिये किसीको ना बताये।

अपने पिन को याद रखिये और इसे कहीं भी लिखिए मत और खासतौर पर इसे किसी के साथ फोन पर साझा बिलकुल ना करे। कई केस ऐसे भी होते है जिनमे फ्रॉड करने वाले आपको बैंक अधिकारी बताकर आपसे डेबिट कार्ड का पिन पूछ लेते है। यह बात हमेशा याद रखिये कि कोई भी बैंक आपसे कभी भी पिन वगेरह के बारे में फ़ोन या ईमेल करके नही पूछते है।

खोये हुए या चोरी हुए डेबिट कार्ड की तुरंत खबर करे

आपको अपने खोये हुए या चोरी हुए डेबिट कार्ड की तुरंत खबर करनी चाहिए, अपने बैंक ब्रांच में जाइए या फिर उनके टोल फ्री नंबर पर कार्ड को ब्लॉक करने के लिए रिपोर्ट कीजिये।

अपना और बैंक का समय बर्बाद मत कीजिये जितनी जल्दी हो सके उतनी जल्दी आप बैंक को इसकी खबर कीजिये ताकि बैंक उसी हिसाब से किसी भी तरह के नुक्सान से बचने के लिए कड़े कदम उठाये।

ईमेल इनबॉक्स को रेगुलर चेक करे

ये अपने डेबिट कार्ड से होनेवाले किसी भी संदेहजनक ट्रांसक्शन के बारे में पता लगाने के लिए सबसे बढ़िया तरीका है।

अगर आप इंटरनेट बैंकिंग की सुविधा का इस्तेमाल करते है तो आपको ट्रांसक्शन सम्बंधित ईमेल आते ही होंगे, फिर भी आपको इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि कहीं कोई और तो आपके ईमेल या पर्सनल कंप्यूटर के साथ छेड़छाड़ नही करता क्योंकि इससे आपकी Identity को खतरा हो सकता है।

डेबिट कार्ड स्वाइप करने के दौरान कैसे रहे सावधान?

स्वाइप मतलब जब भी आप किसी शॉप पर जाते है कोई सामान खरीदने के बाद पेमेंट आप डेबिट कार्ड स्वाइप करके करते हो तो उसमे आपको क्या-क्या सावधानियां बरतनी है।

Point of Sale:

किसी चीज को खरीदने की जगह पर, जब आप पेमेंट करते है तो इस बात का ध्यान रखिये कि आप अपने पिन को भरकर ट्रांसक्शन को Authenticate करे और तबतक इंतजार कीजिये जब तक वेंडर आपको आपके ट्रांसक्शन कन्फर्म होने की रसीद नही दे देता।

Secure प्लेटफार्म को ही यूज़ करके ऑनलाइन पेमेंट कीजिये, जब आप ऑनलाइन चीजे या Services खरीदते है तो अपना पर्सनल कंप्यूटर या लैपटॉप ही इस्तेमाल करे और इस बात का ध्यान रखिये कि Url bar में लॉक सिंबल और https:// को जरुर देख ले।

how to protect against debit card fraud in india

ये सिक्योर ऑनलाइन पेमेंट गेटवे के सिम्बल्स है इसके अलावा Two Tier Authentication प्रोसेस आपके डेबिट कार्ड को सुरक्षित रखने का एक बहुत ही अच्छा जरिया है।

फिर भी अगर आप किसी साइबर कैफ़े में या किसी पब्लिक कंप्यूटर का प्रयोग कर रहे है तो इसके बारे में आपको बहुत ज्यादा ध्यान रखना पड़ेगा। अगर आपको कुछ भी शक वाला लगता है तो आपको Transaction प्रोसेस को ख़त्म करना ही बढ़िया रहेगा।

SMS अलर्ट को चालू रखिये

अपने डेबिट कार्ड की ट्रांसक्शन पर नज़र रखने के लिए ये एक बहुत ही बढ़िया तरीका है, SMS अलर्ट की सर्विस को एक्टिवेट करके आपको अपने फ़ोन पर ही अपने कार्ड से की जाने वाली ट्रांसक्शन की जानकारी मिलती रहती है।

कार्ड को डैमेज से बचाए रखिये

कार्ड के पीछे मौजूद मैग्नेटिक स्ट्रिप ही कार्ड की सबसे जरुरी महत्वपूर्ण चीज होती है, अगर ये किसी कारण से डैमेज हो जाये तो आप कार्ड को स्वाइप करके ट्रांसक्शन करने में असमर्थ हो जायेंगे। इस चीज का ध्यान रखे कि आप इसे किसी Magnetic Object से दूर रखे गंदगी या स्क्रैच ना लगने दे।

बैंक स्टेटमेंट को रिव्यु कीजिये, अपने पासबुक को अपडेट रखिये और अपने अकाउंट स्टेटमेंट को चेक करते रहिये ताकि आप अपने खर्चो के बारे में जान पाए, अगर आपको कुछ भी ऐसा मिलता है जो Unauthorised लगता है तो इसे जल्दी से बैंक को रिपोर्ट कीजिये। इसके अलावा कुछ और भी बातें है जो आपको ध्यान में रखना चाहिए।

अपने पैसो की सुरक्षा करना ये हमारी खुद की जिम्मेदारी है, हम अपने डेबिट कार्ड्स को सेफ रखे। जब हम खुद ही ध्यान नही रखेंगे तो कुछ भी हो सकता है और किसी भी समय हो सकता है।

अगर आप इन सभी डेबिट कार्ड को सेफ रखने की प्रैक्टिस को फॉलो करते है तो आप ये पक्का कर सकते है कि आप इस फ्रॉड से बचने के लिए अपनी तरफ से हर एक संभव कोशिश करते है।

अपने पिन को खुद भरिये, किसी कैशिएर या वेंडर को अपने पिन भरने के लिए कभी मत कहिये। आप जब पिन एंटर करे तब ये पक्का कर ले कि आपके पीछे वाला बंदा अजीब हरकते ना कर रहा हो, अपनी Receipt प्राप्त कीजिये और एक बार उसे अच्छी तरह से जाँचिये।

SMS notification को देखिये, कई बार टेक्निकल खराबी के कारण पेमेंट फेल भी हो सकता है ऐसी परिस्थिति में दोबारा आपके पैसो को आपके खाते में पहुँचने के लिए 24 से 48 घंटे का समय लग सकता है।

अगर इससे ज्यादा समय लगता है तो आप Receipt को अपने बैंक लेकर जा सकते है और एक ATM की कंप्लेंन डाल सकते है।

how to protect against debit card fraud in india

सावधान रहना अपने डेबिट कार्ड को सेफ रखने का सबसे बढ़िया तरीका है, किसी भी तरह की संदेहजनक एक्टिविटी को आपको अपने बैंक में रिपोर्ट करना चाहिए चाहे वो ATM सम्बंधित हो, पॉइंट ऑफ़ सेल सम्बंधित हो या फिर यहाँ तक कि बैंक में भी हो। डेबिट कार्ड फ्रॉड कभी भी हो सकता है ये एक असलियत है।

आप इसे होने से तभी रोक सकते है जब आप फाइनेंसियल तौर पर जिम्मेदार हो और आप फाइनेंसियल तौर पर जिम्मेदार तब बन सकते है जब आपको फाइनेंसियल चीजो के बारे में पूरी-पूरी जानकारी होगी। आप रोजाना अपनी ज़िन्दगी में इन चीजो का पालन करेंगे, हर एक ज़रूरी कदम उठाइये और अपने डेबिट कार्ड की सुरक्षा तथा अपने पैसो की सुरक्षा कीजिये।

जब भी हम किसी ATM मशीन में पैसे निकालने जाते है तो इस बात का ध्यान जरुर रखना चाहिए कि हमें अपना डेबिट कार्ड का पिन अच्छे से याद होना चाहिए, अगर हम ऐसा नही कर पाते तो तीन बार गलत पिन नंबर डालने से हमारा डेबिट कार्ड ब्लॉक हो जाता है जिसे फिर से चालू होने में एक या दो दिन भी लग सकते है।

इस बीच अगर हमें पैसो की जरुरत पड़ गयी तो बहुत सारी परेशानी उठानी पड़ सकती है, इसीलिए हमें अपना पिन नंबर अच्छे से याद रखना चाहिए। अक्सर देखा जाता है कि लोग अपने डेबिट कार्ड का पिन नंबर याद रखने के लिए कार्ड के पीछे ही लिख देते है जो कि बहुत ही गलत आदत है।

ऐसी स्तिथि में अगर डेबिट कार्ड खो जाये या किसी गलत आदमी के हाथ लग जाये तो आपके पैसो का गलत लेन-देन हो सकता है जो कि आप कभी भी करना नही चाहेंगे। इसीलिए कभी भूलकर भी अपने डेबिट कार्ड पर पिन नंबर नही लिखना चाहिए।

Debit Card Frauds in India

अक्सर देखा जाता है कि बहुत से ऐसी जगह भी होते है जिस एरिया में पब्लिक के हिसाब से एटीएम मशीन बहुत ही कम होते है, उन एटीएम मशीन में अक्सर भीड़ भी रहती है। जब कोई एटीएम मशीन से पैसे निकालता है तो उनके आस-पास, पीछे बहुत सारी भीड़ हो जाती है।

जिससे जब वो ट्रांसक्शन प्रोसेस करते है तो उन सब के बीच ही अपना एटीएम पिन भी डाल रहे है, दूसरे लोगो का भी ध्यान इसपर आ जाता है इसीलिए उन्हें ठगी का शिकार होने से बचने के लिए बेझिझक अपने पीछे वाले को थोड़ा दूर या एटीएम मशीन के गेट के बाहर लाइन में खड़े होने को कहना पड़ेगा।

जो व्यक्ति समझदार होते है वो पहले से ही दूरी बनाये रखते है और जो ऐसा नही करते है तो आप उनके सामने भूलकर भी ट्रांसक्शन ना करे क्योंकि थोड़ी सी जल्दबाज़ी आपको काफी महंगी पड़ सकती है।

how to protect against debit card fraud in india

बहुत से लोगो को या तो एटीएम मशीन को चलाना ही नही आता या कभी-कभी इंग्लिश की वजह से अपने पैसे आपने आप नही निकाल पाते, वो अक्सर दूसरो से अपने पैसे निकालने को कहते है। ऐसे में हो सकता है कि जो व्यक्ति आपकी मदद कर रहा हो वो ठीक भी हो सकता है और गलत भी।

इसीलिए पैसो के मामले में थोड़ी सावधानी बरते और अगर आपको एटीएम मशीन से पैसे निकालने नही आता है तो सबसे पहले अपने घरवालो के साथ पैसे निकालने जाये और उनकी मदद से एटीएम मशीन चलाना सीख ले जो आपके मेहनत के पैसो की सेफ्टी के लिए बहुत ही जरुरी है।

बहुत से लोग अपने मोबाइल नंबर बदलते रहते है अगर जो मोबाइल नंबर उन्होंने चेंज किया है वो बैंक अकाउंट में अपडेट नही है तो नंबर चेंज करने से डेबिट कार्ड से जुड़े हुए मेसेज और ट्रांसक्शन की जानकारी उन्हें नही मिल पायेगी जिससे उन्हें काफी सारी परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है।

इसीलिए हमेशा अपना एक नंबर फिक्स रखना चाहिए जो बैंक और दूसरी जगहों पर अपडेटेड हो तथा इस बात की पुष्टि कर ले कि SMS के द्वारा कोई भी जानकारी तुरंत मिल जाता हो, इसके लिए कोई भी एक Permanent नंबर रखना चाहिए।

Types of Debit Card Frauds

हमें अपने फ़ोन पर कई सारे ऐसे कॉल्स आते रहते है जो खुद को किसी बैंक का एग्जीक्यूटिव बताके हमारे अकाउंट और डेबिट कार्ड से जुड़ी इन्फॉर्मेशन पूछते है और कुछ लोग गलती से उन्हें बता भी देते है। इसीलिए कभी भूलकर भी अपने डेबिट कार्ड से जुड़ी कोई नंबर या CVV नंबर जैसी जानकारी शेयर नही करनी चाहिए।

कोई भी बैंक वाला आपके अकाउंट से जुड़ी हुई इन्फॉर्मेशन कभी भी नही पूछते। आजकल ऑनलाइन शॉपिंग का ज़माना है तो हर कोई अपने डेबिट कार्ड के इस्तेमाल से ऑनलाइन शॉपिंग जरुर करता है।

ऐसे में हमें इस बात का ध्यान जरुर रखना चाहिए कि जब हम किसी बाहर के कंप्यूटर से शॉपिंग करते है तो कंप्यूटर में जब पेमेंट डिटेल भरते है तो कंप्यूटर ऑटोमैटिक आपके डेबिट कार्ड के डिटेल को Save करने के लिए पूछता है, हमें गलती से भी उसे Save नही करना चाहिए।

अगर हम ऐसा करते है तो हमारी डेबिट कार्ड की सारी इन्फॉर्मेशन उस कंप्यूटर में Save हो जाएगी जिससे कि बाद में गलत इस्तेमाल होने का खतरा रहता है इसीलिए कभी भी हमें डेबिट कार्ड या पासवर्ड को Save नही करना चाहिए। जब भी कभी हम डेबिट कार्ड के द्वारा शॉपिंग मॉल से शॉपिंग करते है तो हमें अपना पासवर्ड खुद ही टाइप करना चाहिए ना कि किसीको बताकर।

दोस्तों, आज के इस ब्लॉग-पोस्ट (5 Best Ways to Protect Yourself Against Debit Card Frauds in India) में मैंने आपको कुछ छोटे-छोटे टिप्स बताये है अपने डेबिट कार्ड की हिफाज़त करने के लिए, अगर आप इन छोटी-छोटी बातों को ध्यान में रखेंगे तो मै आपको गारंटी से कह सकता हूँ कि आप कभी भी डेबिट कार्ड, क्रेडिट कार्ड या एटीएम कार्ड के फ्रॉड में नही फँस सकते है। पोस्ट पसंद आने पर अपने दोस्तों व परिजनों के साथ शेयर जरुर करे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *